शनिवार, 13 सितंबर 2014

Posted by with No comments
चैन से जब सो जाओगी तुम 
जागेगी रात ,, तुम्हें आहिस्ता भींचकर 
हँसेगी जिन्दगी तुम्हारी बाहों में 
गुम होने लगेंगे सारे पैबंद
और तंज सूइयों का दर्द भी!!!
Reactions:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें