रविवार, 20 मई 2012

तेरे आंगन से मुहब्बत की वो खुशबू निकले।.

Posted by with No comments
तेरे आंगन से मुहब्बत की वो खुशबू  निकले।.

.
दीवार ...दरवाजा और दहलीज ।..!
भला यह भी कोई बात  करने या लिखने का टापिक हुआ?नहीं।.. पर क्यूं नहीं हो सकता?बातें तो किसी भी चीज पर की जा सकती हैं। लेकिन जरा सोचिये ..अगर दीवार. दरवाजा और दहलीज की इंसानी शक्लें होती और ये आपस में रूठने-मनाने ,नुक्ताचीनी करते हुए बतियाते लगते तब किस तरह की बातचीत होती इन  तीनों के बीच  आपस में !अरे।..यह क्या .. दीवार... दरवाजे और दहलीज के चेहरे भी उग आये और गपियाना भी शुरू कर दिया इन तीनों ने आपस में .
              दीवार ने दरवाजे को छेड़ते हुए कहा,"सुन ओ दरवाजे!तुम जानते हो लोग कितना परेशां होते हैं जब तुम बंद होते हो. क्या बात हुई यह समझना ही मुश्किल हो जाता है." बंद दरवाजा देखकर पप्पू कह रहा था-
                 दरवाजे बंद-बंद मिले जिस तरफ गया                
                कुछ तो बताओ दोस्तों क्या बात हुई?
बात क्या होनी थी?दरवाजे ने दीवार से कहा --" किसी के इन्तेजार की शमाएँ जल रही थीं। शमाएँ बुझ गयीं इन्तेजार करते-करते पर मैं खुला का खुला ही रह गया.इसी बीच अचानक तेज हवा का झोंका आया. दहलीज उठकर दरवाजा खोलने लगी पर दीवार ने उसे रोक दिया.दीवार को दस्तक के मायने मालूम  थे.दहलीज को दरवाजा खोलने से मना करते हुए दीवार ने दीवार ने कहा -
                       दस्तक हुई दरवाजे पे दरवाजा न खोलो            
                       ये तुमसे लिपट जाएगी ये जंगल की हवा है
अब भला जंगल की हवा अपनी शोख अदा कैसे न दिखाती !वह दीवार से लिपट कर फुसफुसाने लगी.," मैं तो जा रही हूँ पर दरवाजे से कह देना की दहलीज पर किसी को भी दीये रखने से मना कर दें.इसलिए क्यूंकि मकान  सूखी हुई लकड़ियों के होते हैं" अनजाने में उन तीनों ने जनाब बहीर बद्र को याद कर लिया था.
                        अपने दद्दू के मकान का एक हिस्सा कच्ची दीवार का है.सोच ही रहे थे रविवार को छुट्टी के रोज मिस्त्री बुलाकर पलस्तर करवाऊंगा जी यकायक वह दीवार भरभराकर गिर पड़ी।शुक्र है कोई हादसा  न हुआ वर्ना!चाय की चुस्कियां लेते लेते टूटी दीवार से गिरी ईटों और मलबे के बीच गुजरते राहगीरों की आमद रफत देखकर दद्दू का मूड दुखी होने के साथ-साथ कुछ शायराना हो गया था.वे आ-जाने वालों को देखते जाते और गुनगुनाते भी-
                दीवार क्या गिरी मेरे कच्चे मकान की              
                लोगों ने आने-जाने का रास्ता बना लिया !
 दीवार....दरवाजे और दहलीज पर अभी चेहरे उगे हुए हैं।उनकी बातचीत भी अभी जारी है...जरा सोचिये तो ... चीन  की दीवार और बर्लिन की दीवार भी न जाने क्या क्या कहती होंगी गुजरने वालों से!यकायक दहलीज और दरवाजे  के चेहरे कुछ उदास हो गए.दीवार ने जब कोंच-कोंचकर उनसे पूछा तब एकराय थे दहलीज और दरवाजा.
  " अरी दीवार !तुम तो खामोश रहती हो नुकसान  नहीं करती किसी का लेकिन उस अदृश्य दीवार का क्या जो हिन्दू -मुस्लिम और इंसान-इंसान के बीच है?इस दीवार ने तो इंसानियत का जनाजा ही निकाल  दिया है.
दुखी होकर रो पड़े वे तीनों और उन आंसुओं के बीच फिजा कादरी के बोल इस  तरह से गूंजने लगे-
            तामीर जो घर होता बुनियाद-ए-  मोहब्बत पर
            आंगन में ये नफरत की दीवार नहीं होती
अपने आंसू पोंछकर एक बार फिर दीवार दरवाजा  और दहलीज लगे थे आपस में बतियाने.उन तीनों के चेहरों ने आँखें उठाकर ऊपर देखा ...एक और चेहरा कुछ बुजुर्ग ... गंभीर सा ... ममता भरे नेत्रों से उन्हें निहार रहा था.वह था " घर" का चेहरा.दद्दू ने घर की बिखरी हुई दीवार और दहलीज का चेहरा थपथपाया और आजकल समाज में दरकते रिश्तों और परिवार के लोगों के बीच उठती दीवार से मर्माहत हो गया.घर का चेहरा आंसुओं से भीग गया था.रूंधे हुए गले से वह रुक-रूककर  कहने लगा-
                  कितनी दीवारें उठी हैं एक घर के दरमियाँ              
                  घर कहीं गम हो गया दीवार-ओ -दर के दरमियाँ
अब चार चेहरे आपस में सुख-दुःख की बात करने लगे थे.दीवार... दरवाजा ..दहलीज और घर. घर ने दीवार की पीठ थपथपाते हुए कहा," देख दीवार!तू मजबूत बन.घर की दीवार मजबूत नहीं होंगी तो वे भीतर रहने वालों की सुरक्षा कैसे करेंगी?गिर जाये जो ठोकर से दीवार नहीं होती.अब की बार दहलीज ने अपनी शिकायतों का निशाना दीवार को बनाया।लड़ने के अंदाज में घर से कहने लगी," इस दीवार की ऊंचाई से ही घर के भीतर लोग बैठे हैं या नहीं ... ज़माने को इसकी हवा तक नहीं लगती।"इस बार खिडकियों के कुछ चेहरे भी झाँकने लगे थे.दीवार और दहलीज की नोंकझोंक सुनकर वे समवेत स्वर में गाने लगे-
                      घर में बैठो तो ज़माने को भी हवा न लगे              
                      इतना ऊंचा न उठाना कभी दीवारों को
दीवार... दरवाजा और दहलीज के चेहरों के साथ-साथ अब बातचीत में घर और खिडकियों के चेहरे भी शामिल हो गए थे.घर के चेहरे ने सभी को समझाते हुए कहा,"बच्चों! कभी अपने परिवार के आँगन में दिलों के भीतर दीवारें मत उठने देना.हमसाये का घर भी अपने घर की तरह ही होता है."
                         दीवार।.. दरवाजा।.. दहलीज और खिडकियों ने आज की जिंदगी में धू-छाव खूब देखी  थी।घर के चेहरे के साथ मिलकर वे सभी ख़ुशी से नाचने लगे थे. दरअसल मुहब्बत की हवौएँ बहने लगी थीं.-
                           घर पडोसी का महक जाये चमन की सूरत
                            तेरे आँगन से मुहब्बत की वो खुशबू निकले
 दीवार ..... दरवजा....दहलीज.....घर ... खिडकियों की धमा- चौकड़ी से दद्दू की नींद खुल गयी.हडबडाकर वे उठे," ओह!!!क्या मैं सपना देख रहा था!"...उधर  कालबेल लगातार चीखे जा रही थी .
                                                         
           
                 
                 

Reactions:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें