बुधवार, 17 सितंबर 2014

दिल मिलाते ही नहीं हाथ मिलाने वाले !

Posted by with No comments



अपने दिल को मजबूत बनाकर रखिये   ,अगर  आज  के  ज़माने  में  जीना  है     .विश्व हृदय दिवस पर मेरे  सभी  चीन्हे -अनचीन्हे  दोस्तों  को शुभकामनाये . दिल की बात अगर जिगर से करे तो कैसा रहेगा? जिगर मुरादाबादी ने दिल पर खूब   कहा   है-
          अब  मुहब्बत  में वो  गरमी  है न बातो  में जूनून 
          दिल मिलाते    ही   नहीं  हाथ  मिलाने  वाले !
फिर भी मेरे नौजवान दोस्तों की यही शिकायत होती है के-दिल है के मानता  नहीं.... और  ये दिल न होता बेचारा, कदम न होते आवारा....खैर,साथ ही मुहब्बत की दीवानगी यह भी उनसे कहलवाती है के -
          जो तमन्ना दिल में थी वह दिल में घुट कर रह गई
         उसने पूछा भी नहीं हमने बताया भी नहीं..
पूछिए   भी और बताइये   भी.यूं      तो दर्दे      दिल का   ईलाज  डाक्टर  ही करेगा .  लेकिन  अगरचे  दो  -चार  दिन किसी की निगाहों  में रहने  का मौका  मिले  तो कहियेगा -
            दिल में समां    गई हैं  क़यामत  की शोखियाँ 
           दो -चार  दिन  रहा  था  किसी  की निगाह  में
चलिए ... अपने और अपने चाहने  वालों  के दिलों  की धडकनों  को महसूस  कीजिए ... अपने दिल को प्यार   .. जज्बात .. संवेदना   भरा  और पूरी तरह स्वस्थ  रखिये...ऑफ़ ओह  !!!अब  सब  कुछ  मुझसे  कहाल्वाओगे  के आप  भी कुछ कहोगे !!!!हम  भी तो आशिक  हैं जो आपके  दिल में रहते  है.. लेकिन आपकी  कसम -
                   दर्दे दिल अव्वल  तो वो आशिक का सुनते  नहीं
                    और जो सुनते हैं तो सुनते है फ़साने  की तरह!!!!
                                                 अपना ख्याल रखिये  सभी दिलदारों  को -मुबारक..
                                                                   किशोर दिवसे 

कहलवाओगे
                   
Reactions:

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें